Shiv Sama Rahe Bhajan Lyrics ~ Himachali Song Lyrics

SHARE

Shiv Sama Rahe ( शिव समा रहे ) Song Lyrics - Baba Hansraj Raghuwanshi 

Himachali Song Lyrics के सभी दर्शकों को हमारा प्यार भरा नमस्कार !!

Shiv Sama Rahe Himachali Bhajan Lyrics  : आपके लिए हम आज लेकर आए है Shiv Sama Rahe Lyrics हिन्दी में, जो की एक शिव शंकर महादेव भोलेनाथ का भजन है। जिसको अपने मीठे सुरों से सजाया है शिव भगत Baba hansraj Raghuwanshi ने।  गीत के बोल को Suman Thakur (Advocate ) जी के द्वारा लिखा गया है  Music दिया है Ricky T GiftRulers ने और  Video Director किया है OneManArmy ( Vipin ) ने। 

Shiv Sama Rahe Song - Baba Hansraj Raghuwanshi
Shiv Sama Rahe Bhajan Lyrics

Shiv Sama Rahe Bhajan Lyrics ~ Himachali Song Lyrics

Shiv Sama Rahe Bhajan Credits

Song : Shiv sama rahe 

Singer : Baba Hansraj Raghuwanshi

Produced By Bholenath 

Lyrics : Suman Thakur 

Music : Ricky T GiftRulers

Mix & Master : Amit Monga 

Director/Editor :  OneManArmy ( Vipin )

D.O.P : Raj Sama

Drone : Satish Thakur ( The Portable Television)

Publicity Design : G Dhillon, One Man Army 

Project by : Komal Saklani 

Digital partner : Fatafat Digital

Lyrics Shiv Sama Rahe Bhajan ~ Baba Hansraj Raghuwanshi


भाई जा कहाँ रहा है 

पता नहीं तू जा 

ख्याल रखना अपना 


ॐ नमः शिवाय

ॐ नमः शिवाय

शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ



शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ

क्रोध को , लोभ को ,

क्रोध को , लोभ को , 

में भस्म कर रहा हु 


शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ

ॐ नमः शिवाय


शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ

ॐ नमः शिवाय


भ्र्म मुरारी सुरार्चित लिंगम 

निर्मल भासित शोभित लिंगम 

जन्मज दुःख विनाशक लिंगम 

तत परनमामि  सदा शिव लिंगम 


भ्र्म मुरारी सुरार्चित लिंगम 

निर्मल भासित शोभित लिंगम 

जन्मज दुःख विनाशक लिंगम 

तत परनमामि  सदा शिव लिंगम 


तेरी बनायीं दुनिया में 

कोई तुझ सा मिला नहीं 

में तो भटका दर बदर 

कोई किनारा मिला नहीं 


जितना पास तुझको पाया 

उतना खुद से दूर जा रहा हु 

शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ

ॐ नमः शिवाय



शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ

ॐ नमः शिवाय


मैंने खुद को खुद ही बाँदा 

अपनी खींची लकीरों में 

में लिपट चूका था 

इच्छा की ज़ंजीरो में 


अनंत की गेहराईओ में समय से दूर हो रहा हूँ 

शिव प्राणो में उत्तर रहे और में मुक्त खो रहा हु 


अरे भाई कहाँ जा रहे हो 

मंदिर जा रहा हु 

मंदिर तो बंद है 

मंदिर पुरे एक साल बाद खुलेगा 


उठो हंसराज उठो 

उठो वत्स उठो 

वो सुबह की पहली किरण में 

वो कस्तूरी मन के हिरण में 

मेघों में गूंजे , गरजे गगन में 

रमता जोगी रमता मगन में 


वोही वायु में , वो ही आयु में 

वोही जिसम में , वो ही रूह में 

वही छाया , वो ही दूप में 

वही है हर एक रूप में 


वो भोले बो 


क्रोध को , लोभ को ,

क्रोध को , लोभ को , 

में भस्म कर रहा हु 


शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ

ॐ नमः शिवाय


शिव समा रहे मुझमे

और मैं शुन्य हो रहा हूँ

ॐ नमः शिवाय


Shiv Sama Rahe Lyrics | शिव समा रहे | Hansraj Raghuwanshi | Himachali Songs Lyrics | Hindi Lyrics

Himachali Song Lyrics

HimachaliSongLyrics is one of the best Himachali Pahadi Songs Lyrics websites. Here you can easily find Lyrics of almost  All Type of Latest And Old Himachali , Pahadi , Folk , Nonstop , Bhajan , Nati , Songs In Hindi Fonts 

निवेदन : हमारी वेबसाइट Himachali Song Lyrics को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव नीचे कॉमेंट बॉक्स में लिखें व इस ज्ञानवर्धक ख़जाने को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। यदि कोई त्रुटि / सुधार  हो तो आप मुझे Contact us  के जरिये ई मेल के माध्यम से भी सम्पर्क  कर सकते हैं। धन्यवाद।

Web Tittle : Shiv Sama Rahe Bhajan Lyrics.

SHARE

0 Comments:

निवेदन : हमारी वेबसाइट Himachali Song Lyrics को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव नीचे कॉमेंट बॉक्स में लिखें व इस ज्ञानवर्धक ख़जाने को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। यदि कोई त्रुटि / सुधार हो तो आप मुझे Contact us के जरिये ई मेल के माध्यम से भी सम्पर्क कर सकते हैं। धन्यवाद।